+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com

विरासत

तब से कहारों को साढ़े तीन सेर अनाज की मजदूरी मिलने लगी

ब्रिटिश व्यापारी थॉमस ट्विनिंग 1850 में हिंदुस्तान आया तो उसने पटना की सड़कों पर लोगों को पालकी की सवारी करते देखा। उसने लिखा है,’ कुछ लोगों को मैंने खूब ...

मुसहर थे पटना के मूल निवासी

1907 में पटना जिला के गज़ेटियर तैयार करने के क्रम में ब्रिटिश आईसीएस अधिकारी ओ’ मैली ने यहां रहने वाली जातियों की जनसंख्या के साथ साथ उनके बारे म...

Post Carousel