+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com

इकलौती बुआ के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हुए तेज और तेजस्वी

राजद सुप्रीमो लालू यादव की बड़ी बहन के अंतिम संस्कार में दोनों बेटे तेज प्रताप और तेजस्वी के नहीं शामिल होने से उनके परिजनों ने आश्चर्य व्यक्त किया है। जानकारी के मुताबिक लालू यादव की इकलौती बहन गंगोत्री देवी का आज अंतिम संस्कार कर दिया गया।

खबर के मुताबिक राजद सुप्रीमो की बहन गंगोत्री देवी के शव को रविवार की रात में ही गोपालगंज के पंचदेवरी प्रखंड के चक्रपाण गांव पहुंचा दिया गया था। स्थानीय लोगों की मानें, तो लोग यह सोच रहे थे कि अपनी इकलौती बुआ के अंतिम संस्कार में दोनों भतीजे पहुंचेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ और गंगोत्री देवी पंचतत्व में विलीन हो गयीं।

कहा यह जा रहा था कि लालू को अपनी बड़ी बहन से बहुत लगाव था। गंगोत्री देवी के परिजनों की मानें, तो उन्हें पूरा विश्वास था कि तेजस्वी और तेज प्रताप जरूर आयेंगे, लेकिन वह नहीं आये।

घरवालों ने गंगोत्री देवी का शव घर पर रखकर घंटों इंतजार किया। कई घंटे इंतजार करने के बाद गंगोत्री देवी के शव को उनके सबसे छोटे बेटे बैरिस्टर यादव ने मुखाग्नि दी। पार्टी के कई नेताओं का मानना है कि किसी न किसी को शामिल होना चाहिए था, लालू सुनेंगे, तो बहुत नाराज होंगे।

बताया जा रहा है कि गांव में गंगोत्री देवी का शव पहुंचने के बाद सैकड़ों लोग वहां जमा हो गये। लालू प्रसाद की भतीजी और गंगोत्री देवी की बेटी निर्मला देवी ने मीडिया को बताया कि उनकी मां की उम्र सत्तर वर्ष थी।

निर्मला देवी के मुताबिक लालू प्रसाद के दोनों पुत्रों को यहां आना था। निर्मला ने बताया कि बड़ी बहन लालू को बहुत मानती थीं और रात में उठकर अचानक लालू से फोन पर बात करने की जिद करती थीं। लालू के जेल जाने के सदमे ने जान ले ली।

बताया जाता है कि लालू प्रसाद की सजा के बाद गंगोत्री देवी काफी उदास हो गयी थीं। वह लोगों से कहती थीं कि उनका भाई निर्दोष है।

Related Posts

Leave a Reply

*