+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com

गंगा के पानी को निर्मल और अविरल रखना है तो गाद को हटाना होगा: नीतीश

Nitishमुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज बिहार विधान परिषद् में झारखंड के मंत्री सरयू राय की मासिक पत्रिका युगांतर प्रकृति के विमोचन के अवसर पर गंगा के जल स्तर के वृद्धि पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि गाद (शिल्ट) के कारण गंगा छिछली होती जा रही है।

उन्होंने कहा कि जब से फरक्का बराज का निर्माण हुआ है, शिल्ट बढ़ रहा है। गंगा छिछली हो गयी है और गहरी नहीं है। धार भी सिमटती जा रही है। ऐसे में दूसरी नदियों का पानी गंगा में आता है तो वह फैलती है। मुख्यमंत्री ने बताया कि उन्होंने गंगा बेसिन रिवर ऑथरिटी की बैठक में नेशनल शिल्ट मैनेजमेंट पॉलिसी चलाने का मुद्दा उठाया था।

उन्होंने कहा कि गंगा के पानी को निर्मल और अविरल रखना है तो गाद को हटाना होगा, नहीं तो नामामि गंगे को सफलता नहीं मिलेगी। पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन बंसल ने स्थिति का जायजा भी लिया था और कहा कि फरक्का बांध को तोड़ने के अलावा कोई उपाय नहीं होगा?, जबकि इंजीनियर कहते हैं कि शिल्ट रुकता नहीं, डिस्चार्ज होता है, जबकि शिल्ट का जमाव हो रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गंगा के बदलते धार को देखा है। जब खरीफ फसल के लिए पानी की जरूरत होती है तो राज्यों के एग्रीमेंट के हिसाब से पानी मिलना चाहिए तो वह भी नहीं मिलता है। अभी तो एग्रीमेंट तो छोड़िए पानी-पानी मिल रहा है। मौसम का मिजाज बदल गया है। डवांडोल की स्थिति है। जो धान लग गये हैं उनके बचाव की चिंता है। बाढ़ से साथ-साथ सूखे से निबटना है।

नीतीश ने कहा कि पर्यावरण के असंतुलन के हमलोग भुक्तभोगी हैं। झारखंड जैसे राज्य में जहां खेत कम हैं वहां पानी ज्यादा है अौर बिहार जैसे राज्य में खेत ज्यादा हैं तो पानी कम है। पर्यावरण संतुलन पर ध्यान देना होगा।

इसके पहले रविवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्र सरकार से बाढ़ की स्थिति का जायजा लेने के लिए विशेषज्ञों की टीम भेजने की मांग की। बाढ़ की स्थिति जानने के लिए जब केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने नीतीश से फोन पर बात की तो उन्होंने ये अपील की।

नीतीश कुमार ने केंद्रीय गृह मंत्री से कहा कि विशेषज्ञों की टीम में उन्हें भेजिएगा जो इंपारसियल अन वाइज्ड (जिनका दिमाग खुला) हो, जो पहले से वायस्ड (बंधे दिमाग वाले) हैं, उन्हें नहीं भेजिये। नहीं तो वे आयेंगे और कुछ बोल कर चले जायेंगे। हमलोगों की कोई कुछ सुनेंगे नहीं। फरक्का बांध तक शिल्ट जमा है। बांध को ध्वस्त करना संभव नहीं है। उसके कारण जो समस्या हुई है, उसका वैज्ञानिक व विशेषज्ञ रास्ता निकाले।

Bihar Khoj Khabar
About the Author
Bihar Khoj Khabar is a premier News Portal Website. It contains news of National, International, State Label and lots More..

Related Posts

Leave a Reply

*