+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com

नहीं रहे ‘लगान’ के ईश्वर काका, आखिरी दिनों में आमिर खान बने सहारा

आमिर खान की फिल्म लगान में ईश्वर काका की भूमिका और केतन मेहता की फिल्म सरदार में मोहम्मद अली जिन्ना की भूमिका निभाने वाली अभिनेता श्रीवल्लभ व्यास की जयपुर में मृत्य हो गई है।

सूत्रों के मुताबिक शाम को ही उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया। 2008 में पैरालाइसिस के अटैक के बाद से ही वह बीमारी से जूझ रहे थे। व्यास अपने पीछे पत्नी शोभा और दो बेटियों को छोड़कर गए हैं। लंबी बीमारी के बाद 60 वर्षीय अभिनेता ने जयपुर में अंतिम सांस ली।

व्यास ने लंबे समय तक थिएटर में भी काम किया था। लगान और सरफरोश उनकी भूमिकाएं छोटी ही थीं, लेकिन दर्शकों पर उन्होंने अपने अभिनय से गहरा प्रभाव छोड़ा था।

2008 में उन्हें पैरालिसिस अटैक आया था, जिसके बाद से उनकी तबीयत काफी खराब थी और वे सिर्फ लिक्विड डायट ही ले रहे थे। 2013 में उनका परिवार इलाज के लिए जैसेलमेर से जोधपुर चला गया था। उनकी पत्नी शोभा व्यास के मुताबिक सिने और टेलीविजन एसोसिएशन ने भी उनकी मदद नहीं की थी।

श्रीवल्लभ व्यास की पत्नी शोभा के मुताबिक के मुताबिक इस कठिन समय में आमिर खान ने हमें फाइनेंशियल और मॉरल सपोर्ट किया। उनकी मदद की वजह से ही हम जयपुर में 3 बेडरूम के मकान में किराए पर रह पाए। हर महीने की पहली तारीख को मेरे खाते में उनके 30 हजार रुपए जमा हो जाते थे। आमिर मेरी बेटियों की स्कूल फीस और श्रीवल्लभ के मेडिकल का खर्च भी दे रहे थे। आमिर के अलावा इस मुश्किल घड़ी में एक्टर इमरान खान और मनोज वाजपेयी ने भी श्रीवल्लभ व्यास की मदद की थी।

बताया जाता है कि अक्टूबर 2008 में श्रीवल्लभ गुजरात के राजपीपला में भोजपुरी फिल्म की शूटिंग के दौरान होटल के बाथरूम में गिर गए थे। सिर में गहरी चोट की वजह से वे बेहोश हो गए थे। दुर्घटना के तुरंत बाद क्रू मेंबर्स उन्हें लेकर वडोदरा रवाना हो गए। वहां हॉस्पिटल में उनके सिर का ऑपरेशन किया गया था।

शोभा के मुताबिक, इनकी बीमारी की वजह से उन्हें 2 साल में तीन घर बदलने पड़े। लोग कहते हैं, बीमार शख्स साथ है, हम नहीं रख सकते। क्या वक्त इस कदर बदल जाता है?

17 सितंबर, 1958 को जैसलमेर में जन्मे श्रीवल्लभ व्यास जयपुर में राजस्थान यूनिवर्सिटी से हिन्दी में एमए करने के बाद एनएसडी में चले गए थे। पत्नी शोभा के मुताबिक, 1984 में जब हमारी शादी हुई तब एनएसडी की रेपरटरी में उन्हें 700 रुपए मासिक मिलते थे।

श्रीवल्लभ व्यास ने बाद में मुंबई पहुंचकर कई टीवी सीरियल्स में काम किया। बाद में फिल्म ‘सरफरोश’ में उन्होंने मेजर असलम बेग का रोल किया। आमिर खान को इस फिल्म में श्रीवल्लभ व्यास की एक्टिंग इतनी पसंद आई कि बाद में उन्होंने अपनी फिल्म ‘लगान’ की क्रिकेट टीम में उन्हें शामिल कर लिया।

श्रीवल्लभ केतन मेहता की ‘सरदार’, शाहरुख खान के साथ ‘माया मेम साहब’, ‘वेलकम टु सज्जनपुर’, ‘सरफरोश’, ‘लगान’, ‘बंटी और बबली’, ‘चांदनी बार’ और ‘विरुद्ध’ सहित करीब 60 फिल्मों में काम कर चुके हैं।

Related Posts

Leave a Reply

*