+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com

बिहार: आज से डाउनलोड करें मैट्रिक प्रैक्टिकल परीक्षा का एडमिट कार्ड, 8 तक त्रुटि में सुधार

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से मैट्रिक वार्षिक परीक्षा 2018 के प्रैक्टिकल परीक्षा का एडमिट कार्ड समिति के वेबसाइट पर बुधवार को अपलोड कर दिया जायेगा. मैट्रिक परीक्षा के परीक्षार्थी आज दोपहर दो बजे से एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकेंगे.

समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि विद्यालयों के प्राचार्य समिति द्वारा उपलब्ध कराये गये यूजर आईडी एवं पासवर्ड का उपयोग करते हुए एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं. एडमिट कार्ड पर प्राचार्य के हस्ताक्षर और विद्यालय का मुहर अनिवार्य रूप से किया जाना है. यह प्रवेश पत्र केवल प्रैक्टिकल परीक्षा के लिए जारी किया जा रहा है. प्रैक्टिकल परीक्षा 22 से 24 जनवरी को है. समिति की ओर से चार से आठ जनवरी तक एडमिट कार्ड में सुधार के लिए पोर्टल खोला जायेगा. परीक्षार्थी अपने एडमिट कार्ड में मौजूद त्रुटियों में सुधार करवा सकेंगे.

इंटर प्रैक्टिकल को लेकर बढ़ी परेशानी

पटना : इंटर प्रैक्टिकल परीक्षा को लेकर विषय वार डेटशीट जारी कर दिया गया है. परीक्षा 11 से 25 जनवरी तक आयोजित होगी. इंटर साइंस में फिजिक्स की परीक्षा 11 से 15 जनवरी के बीच, कमेस्ट्री की 16 से 21 के बीच होगी.

विद्यालयों की मानें तो प्रत्येक विद्यालय में करीब 200 से 400 परीक्षार्थी इंटर प्रैक्टिकल परीक्षा देंगे. लेकिन, अब तक विद्यालयों में बनाये जाने वाले सेंटर की सूचना नहीं मिलने से विद्यालयों के प्रधान चिंतित हैं. विद्यालय प्रधानों की मानें तो समय पर सेंटर और परीक्षार्थियों की संख्या की सूचना नहीं मिलेगी तो स्कूलों में परीक्षा के आयोजन की तैयारी में समस्या होगी, क्योंकि कई विद्यालयों में लैब की क्षमता परीक्षार्थियों की संख्या के हिसाब से सही नहीं है. अचानक प्रबंध करने से कई समस्याएं हो सकती हैं.

प्राचार्यों को अब तक नहीं मिली सेंटर और परीक्षार्थियों की सूची

बांकीपुर गर्ल्स हाई स्कूल की प्राचार्य विजिया कुमारी ने बताया कि उनके विद्यालय के विद्यार्थियों के प्रैक्टिकल परीक्षा का सेंटर केबी सहाय उच्च विद्यालय शास्त्रीगनर में पड़ा है. वहीं, बीएन कॉलेजिएट स्कूल का सेंटर गर्दनीबाग हाई स्कूल में है. गर्दनीबाग हाई स्कूल की प्राचार्य चित्रलेखा कुमारी ने बताया कि हमारे यहां विद्यालयों के बच्चों का सेंटर पीएन एंगलो में पड़ा है.

अब तक हमारे पास विद्यालयों में सेंटर बनाने और विद्यार्थियों की सूची उपलब्ध नहीं करायी गयी है. उन्होंने बताया कि लैब में 30 बच्चों के बैठने की जगह है. ऐसे में दो पालियों में ली जाने वाली प्रैक्टिकल परीक्षा में केवल 60 बच्चे ही परीक्षा दे सकेंगे. यदि विषयों में परीक्षार्थी अधिक हुए तो परेशानी बढ़ जायेगी.

साभार: प्रभात खबर

Related Posts

Leave a Reply

*