+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com

बिहार में राजनीतिक उठा-पटक, कांग्रेस के चार एमएलसी ने छोड़ा पार्टी का साथ

बिहार में राजनीतिक उठापटक अपने चरम पर है. बुधवार को बीजेपी से खफा होकर बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने एनडीए का साथ छोड़कर आरजेडी महागठबंधन में शामिल हो गए.

अब महागठबंधन को एक बड़ा राजनीतिक झटका लगा है. बिहार कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अशोक चौधरी की अगवाई में कांग्रेस के कुल छह एमएलसी में से चार एमएलसी ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया. अशोक चौधरी के अलावा जिन एमएलसी ने कांग्रेस पार्टी छोड़ी है उनमें दिलीप चौधरी रामचंद्र भारती और तनवीर अख्तर के नाम शामिल हैं.

पार्टी छोड़ने के बाद अशोक चौधरी ने कांग्रेस के महामंत्री और बिहार प्रभारी सी पी जोशी पर पार्टी को तितर-बितर करने का सीधा आरोप लगाया. अशोक चौधरी ने कहा कि राहुल गांधी के नजदीकी होने का गलत फायदा उठाकर हमारे खिलाफ षडयंत्र रचा. एक व्यक्ति विशेष (काकब कादरी) को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाने के लिए प्रदेश में पूरी पार्टी को तितर-बितर कर दिया.

अशोक चौधरी जेडीयू से जुड़ने के बाद अब सीएम नीतीश कुमार को बिहार के सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्रियों में से एक बता रहे हैं और भविष्य के लिए कांग्रेस को चेतावनी भी दे रहे हैं

अशोक चौधरी गुट ने कल शाम विधान परिषद के उपसभापति हारुन रशीद को अर्जी देकर सदन में अलग गुट के रूप में मान्यता देने की अपील की. चौधरी गुट का यह फैसला सार्वजनिक होने के साथ ही बिहार कांग्रेस के प्रभारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने चारों नेताओं अशोक चौधरी, दिलीप चौधरी, रामचंद्र भारती और तनवीर अख्तर को पार्टी से निष्कासित कर दिया.

Related Posts

Leave a Reply

*