+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com

बड़ी खबर: लालू परिवार की करोड़ों की संपत्तियां जब्‍त

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद और उनके परिजनों की मुसीबतें लगातार बढ़ती जा रही हैं। सोमवार को आयकर विभाग ने उनके परिवार के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए पटना और दिल्ली समेत कई संपत्तियों को जब्त कर लिया है।

खबर के अनुसार ईडी की कर्रवाई के बाद अब आयकर विभाग ने लालू की बेटी मीसा भारती की दिल्ली के बिजवासन के फार्म हाउस को जब्त कर लिया है। पटना में लालू प्रसाद के मॉल की जमीन सहित अन्य संपत्तियों को भी जब्त किया गया है।

बेनामी संपत्ति के मामले में घिरी लालू की बेटी मीसा की जब्त की जाने वाली संपत्तियों का बाजार भाव करीब 165 करोड़ रुपये है। इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय ने मीसा और उनके पति शैलेश के फार्म हाउस को जब्त कर लिया था। यह फार्महाउस दिल्ली में पालम के बिजवासन में है। यह फार्म हाउस मेसर्स मिशैल पैकर्स ऐंड प्रिंटर्स प्राइवेट लिमिटेड के नाम पर है। इसे 1.2 करोड़ रुपये में 2008-09 में खरीदा गया था। गिरफ्तार जैन बंधुओं (सुरेंद्र कुमार जैन और वीरेंद्र जैन) के जिन कंपनियों से संबंध रहे हैं, उनमें मेसर्स मिशैल पैकर्स ऐंड प्रिंटर्स प्राइवेट लिमिटेड शामिल है।

मीसा के शेयर खरीदने से पहले तक इस कंपनी का पता 25, तुगलक रोड, नई दिल्ली दर्ज था। 2009-10 के दौरान पता बदलकर फार्म संख्या 26 पालम फार्म्स, वीपीओ बिजवासन, नई दिल्ली हो गया। मीसा और कुमार इसी अवधि में कंपनी के निदेशक थे।

जब्त हुई सपंत्तियां
फार्म नंबर 26 (पालम फार्म्स, बिजवासन, दिल्ली)
फर्जी कंपनी : मिशैल पैकर्स एंड प्रिंटर्स प्राइवेट लिमिटेड
लाभार्थी : मीसा भारती और शैलेश कुमार
बुक वैल्यू : 1.4 करोड़ रुपये
मार्केट वेल्यू : 40 करोड़ रुपये
मकान नं. 1088 (न्यू फ्रेंड्स कालोनी, दिल्ली)
फर्जी कंपनी : एबी एक्सपोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड
लाभार्थी : तेजस्वी यादव, चंदा और रागिनी यादव
बुक वैल्यू : 5 करोड़ रुपये
मार्केट वैल्यू : 40 करोड़ रुपये

पटना के दानापुर के पास जालापुर में 9 प्लॉट
फर्जी कंपनी : डिलाइट मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड
लाभार्थी : राबड़ी देवी, तेजस्वी यादव
बुक वैल्यू : 1.9 करोड़ रुपये
मार्केट वैल्यू : 65 करोड़ रुपये
पटना के दानापुर के पास जालापुर में 3 प्लॉट
फर्जी कंपनी : एके इंफोसिस्टम
लाभार्थी : राबड़ी देवी, तेजस्वी यादव
बुक वैल्यू : 1.6 करोड़ रुपये
मार्केट वैल्यू : 20 करोड़ रुपये

क्या है बेनामी संपत्ति
ऐसी संपत्तियां उसे मानी जाती है जिसमें जिसके नाम पर संपत्ति खरीदी गई है वह उसका वास्तविक मालिक नहीं होता है। अधिनियम के तहत वास्तविक मालिक, बेनामी खरीदार, मध्यस्थ और बेनामी लेनदेन में पहचान बने लोगों के खिलाफ मामला चलाने की व्यवस्था है। कानून के तहत मुआवजा दिए बगैर सरकार ऐसी संपत्तियों को जब्त कर सकती है।

Related Posts

  1. राजेन्द्र गुप्ता

    आखिर पाप का घड़ा एक-न -एक दिन फूटता ही था!
    लालू यादव बहुत ही बेशर्म,बेहया लोभी और अहसान-फरामोश शख्स है. यही कारण है कि जब नीतीशजीने लाचारीवश उससे हाथ मिलाया तो उसका उसने भरपूर व्यकिगत लाभ उठाया.

Leave a Reply

*