+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com

मोदी के लौटते ही अमेरिका ने उड़ाया ‘मंगलायन’ का मजाक

Cartoonनरेन्द्र मोदी के स्वदेश लौटते ही भारत के मंगल मिशन को लेकर अमेरिकी अखबार ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने एक कार्टून छापकर भारत का मजाक उड़ाया है। कार्टून में देखा सकता है कि पगड़ी पहने एक भारतीय व्यक्ति गाय के साथ ‘एलीट स्पेस क्लब’ का दरवाजा खटखटा रहा है।

क्लब में बैठे दो सदस्यों में एक को अखबार पढ़ते दिखाया गया, जिसमें भारत का ‘मंगल मिशन’ का मुख्य शीर्षक है। क्लब के कमरे में बैठे दोनों ही सदस्य बाहर के व्यक्ति के दरवाजा खटखटाने से खुश दिखाई नहीं दे रहे हैं। यह कार्टून उन पुराने दिनों की याद दिला रहा है, जब भारत पर अंग्रेजों का शासन था और श्वेत-अश्वेत के बीच भेदभाव अपने चरम पर था। अखबार के इस कार्टून की आलोचना हो रही है। कार्टून को ‘नस्लीय टिप्पणी’ के तौर पर भी देखा जा रहा है।

‘न्यूयार्क टाइम्स’ में छपे इस कार्टून की इस बात के लिए भी आलोचना हो रही है कि 30 सितंबर को ही भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका की यात्रा खत्म हुई है। यात्रा के अंतिम दिन नरेन्द्र मोदी ने ओबामा के सामने भारत के मंगल मिशन की जमकर प्रशंसा की थी।

उल्लेखनीय है कि भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए सितंबर का महीना ऐतिहासिक साबित हुआ। मंगलयान (मार्स ऑर्बिटर) ने पहली ही कोशिश में मंगल की कक्षा में प्रवेश कर रिकॉर्ड बनाया था। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो), अमेरिकी नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा), रूसी संघीय अंतरिक्ष एजेंसी (आरएफएसए) और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के बाद मंगल तक पहुंचने वाली चैथी अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष एजेंसी है।

यह दुनिया का सबसे किफायती मंगल अभियान है। इसमें करीब 450 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। अपने मंगल मिशन में भारत ने चीन को भी पछाड़ दिया है। चीन और जापान अपने पहले मंगल मिशन नाकामयाब रहे थे।

‘हफिंगटन पोस्ट’ में प्रकाशित अपने लेख में भारतीय मूल की अमेरिकी पत्रकार शरन्या हरिदास ने ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ के कार्टून को नस्लीय करार दिया है। इसमें उन्होंने अखबार पर तीखी चुटकी ली। उन्होंने भारत के मंगलयान अभियान के खर्च की तुलना अमेरिका के दो बिलियन डॉलर क्यूरियोसिटी रोवर से की।

शरन्या हरिदास ने लिखा, ‘मंगलयान हॉलीवुड मूवी ‘ग्रेविटी’ से भी किफायती अभियान है। यही नहीं, मंगलयान की प्रति किमी यात्रा 7 से 11 रुपए है, जो भारत के अधिकांश शहरों में ऑटोरिक्शा से प्रति किमी यात्रा खर्च से भी कम है।’ हरिदास लिखती हैं, ‘इसलिए न्यूयॉर्क टाइम्स में ‘इंडियाज बजट मिशन टू मार्स’ शीर्षक से ‘हेंग’ द्वारा बनाए गए कार्टून का स्वाद गड़बड़ प्रतीत होता है।’

उल्लेखनीय है कि न्यूयॉर्क टाइम्स ने यह कार्टून ‘मैडिसन स्क्वेयर गार्डन’ में मोदी द्वारा 20,000 भारतीय अमेरिकियों को संबोधन के बाद छपा था। मोदी ने तब मंगलयान मिशन की सफलता का जिक्र करते हुए हॉलीवुड मूवी ‘ग्रेविटी’ के खर्च से इसकी तुलना की थी। साथ ही, ऑटोरिक्शा से प्रति किमी यात्रा के खर्च से भी मंगलयान के खर्च को कम बताया था।

Bihar Khoj Khabar
About the Author
Bihar Khoj Khabar is a premier News Portal Website. It contains news of National, International, State Label and lots More..

Related Posts

Leave a Reply

*