+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com
BREAKING NEWS

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस (फ़रवरी 28) पर विशेष: सुरेंद्र झा, बिहार के मिस्टर पॉपुलर साइंस

कुछ वर्षों पहले तक मैगज़ीन स्टैंड्स पर दिनमान, सारिका, साप्ताहिक हिंदुस्तान, धर्मयुग और इलस्ट्रेटेड वीकली जैसी पत्रिकाओं के बीच साइंस टुडे नाम की एक पत्रिका भी आया करती थी। बीते दिनों की कई चीज़ों की तरह इस पत्रिका का नाम भी अब सिर्फ गिने-चुने मौकों पर ही सुनने को मिलता है, लेकिन एक समय था जब यह पत्रिका भारत में लोकप्रिय विज्ञान पत्रकारिता के क्षेत्र में एक स्तम्भ की तरह स्थापित थी। इस पत्रिका के संस्थापक-संपादक थे सुरेंद्र झा।

1928 में बिहार के एक संपन्न ब्राह्मण परिवार में जन्मे सुरेंद्र झा ने 1966 से 1983 तक साइंस टुडे के प्रधान संपादक का पद संभाला और एक लंबे समय तक एक आदर्शवादी पत्रकार और विज्ञान प्रसारक के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। देश में विज्ञान की लोकप्रियता को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 1986 में उन्हें पहले इंदिरा गाँधी पुरस्कार से सम्म्मानित किया गया।

सुरेंद्र का बचपन बिहार में बीता। स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद वे कलकत्ता चले गए। वहाँ वे कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य बन गए और स्वतंत्रता संग्राम में भी हिस्सा लिया। बाद के दिनों में उन्हें बिहार सरकार की तरफ से बॉम्बे में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए छात्रवृत्ति मिली। हालाँकि कॉलेज की फीस में हुई वृद्धि के विरोध में मोर्चा निकालने की वजह से उन्हें कॉलेज से निष्काषित कर दिया गया। आगे चलकर उन्होंने रसायन-शास्त्र और बाद में वकालत में स्नातक की उपाधि ली। कुछ समय वकालत करने के बाद वे पत्रकारिता में आ गए और करंट तथा इकॉनोमिक एंड पोलिटिकल वीकली में काम किया।

सुरेंद्र झा ने महसूस किया कि देश भर में कई वैज्ञानिक महत्वपूर्ण शोध में शामिल तो हैं पर उनमें से अधिकतर आम जनता तक विज्ञान के उत्साह को पहुँचाने में असक्षम हैं। 35 वर्षीय सुरेंद्र ने तब विज्ञान के क्षेत्र में हो रहे रोचक और महत्वपूर्ण विकास की ख़बरों को गैर-वैज्ञानिकों तक पहुँचाने के लिए एक पत्रिका का प्रारूप तैयार किया और टाइम्स ऑफ़ इंडिया समूह को उसे प्रकाशित करने के लिए राज़ी किया।

अपने तरह की पहली पत्रिका साइंस टुडे लोगों को काफी पसंद आई और कुछ ही समय में इसे एक बड़ा पाठक वर्ग मिल गया। सहायक संपादक प्रदीप पॉल के साथ मिलकर सुरेंद्र झा ने कुछ वैज्ञानिकों और विज्ञान-लेखकों की एक टीम तैयार कि जो इस पत्रिका के लिए नियमित रूप से लिखा करते। इसके पाठकों में शामिल कई छात्रों और युवाओं को इस पत्रिका की वजह से विज्ञान के क्षेत्र में काम करने का प्रोत्साहन मिला। कई वर्षों बाद भी इसके कई पुराने पाठक इसे विज्ञान की दुनिया से उनका आगाज़ कराने के लिए याद करते हैं।

कुछ समय बाद प्रदीप पॉल ऑस्ट्रलिया चले गए और उनकी जगह मोहन शिवानंद (जो आगे चलकर रीडर्स डाइजेस्ट के संपादक बने) ने ले ली। कुछ वर्षों पहले मोहन ने सुरेंद्र झा को समर्पित एक संस्मरण में अपने जीवन पर पड़े सुरेंद्र झा के प्रभाव का ज़िक्र किया है। साथ ही उन्होंने उन कारणों की भी चर्चा की है जिसकी वजह से साइंस टुडे को नब्बे के दशक में बंद कर दिया गया।

मोहन लिखते हैं, “टाइम्स ऑफ़ इंडिया समूह के मालिकों की प्राथमिकता पत्रिका से होने वाली आमदनी थी जबकि सुरेंद्र झा एक संपादक के तौर पर पत्रिका की विश्वसनीयता में कमी नहीं आने देना चाहते थे। कई मौकों पर इस वजह से दोनों पक्षों में अनबन हो जाती थी। एक बार साइंस टुडे पत्रिका में वयस्कों के कद बढ़ाने वाले एक विज्ञापन को छापने के लिए मजबूर किया गया। तब उन्होंने बड़ी चालाकी से उस विज्ञापन के ठीक सामने वाले पन्ने पर एक जाने-माने चिकित्सक का आलेख छाप दिया जिसमें यह बताया गया था की वयस्कों का कद बढ़ना क्यों नामुमकिन है।”

प्रकाशकों के साथ काफी समय तक चल रहे मनमुटाव की वजह से 1983 में सुरेंद्र ने पत्रिका के संपादक के पद से इस्तीफा दे दिया और अपनी एक अलग पत्रिका साइंस ऐज शुरू की। अगले कुछ वर्षों में टाइम्स ऑफ़ इंडिया समूह ने साइंस टुडे के साथ कई असफल प्रयोग किये और आखिरकार 1992 में इसका प्रकाशन बंद कर दिया गया।

वर्ष 1997 में लंबे समय से बीमार चल रहे सुरेंद्र झा की मृत्यु हो गयी। मोहन के मुताबिक सुरेंद्र हमेशा कहा करते थे कि उनका व्यवसाय केवल सत्य का प्रसार करना और उसे बढ़ावा देना है। सुरेंद्र झा की यह बात आज भी उतनी ही प्रासंगिक लगती है।

विज्ञान के रोमांच को लोगों तक पहुँचाने की उनकी ललक और अपने आदर्शों को सर्वोपरि रखने की उनकी दृढ़-निश्चितता सुरेंद्र झा को आज भी एक प्रेरणास्रोत बनाती है।

अनूप आनंद सिंह
चौथे वर्ष बी एस एम एस के छात्र
भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान, पुणे

Bihar Khoj Khabar About Bihar Khoj Khabar
Bihar Khoj Khabar is a premier News Portal Website. It contains news of National, International, State Label and lots More..

Bihar Khoj Khabar
About the Author
Bihar Khoj Khabar is a premier News Portal Website. It contains news of National, International, State Label and lots More..

Related Posts

Leave a Reply

*