+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com
BREAKING NEWS

‘लालूजी राजनीति में न होते तो तो हिंदुस्तान के बेहतरीन रसोइया होते’

tejaswi-yadav‘अगर मेरे पिता राजनीति में न होते तो हिंदुस्तान के सबसे बेहतरीन रसोइया होते.’ यह कहना है राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बेटे और बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव का।

दिल्ली से प्रकाशित एक साप्ताहिक शुक्रवार (1 मार्च 2014) को दिए साक्षात्कार में तब तेजस्वी यादव ने अपने पिता लालू प्रसाद की बहुत सारी खूबियाँ गिनवायीं थीं। यह उन दिनों की बात है जब उन्होंने क्रिकेट को अलविदा कह राजनीति में प्रवेश का फैसला लिया था। तेजस्वी के लिए उनके पिता उनके आदर्श हैं।

उन्होंने साक्षात्कार में कहा, “वे मेरे सियासी हीरो हैं। कश्मीर से कन्याकुमारी, कच्छ से कामरूप तक इस तरह का जनसमर्थन वाला राजनेता दूसरा नहीं मिलेगा। ऐसा इसीलिए नहीं कह रहा हूँ कि वे मेरे पिता हैं। बल्कि हकीकत है कि एक ओर लालू जी को खड़ा करो बोलने के लिए, दूसरी ओर वहां से डेढ़-दो किलोमीटर के फासले पर मुल्क के किसी भी नेता को खड़ा कर दो भाषण के लिए। सारी भीड़ लालू यादव के पास चली जाएगी। ”

तेजस्वी यादव अपने पिता को एक साथ कई बहुत बड़े हास्य कवि और बहुत बड़े अभिनेता भी मानते हैं। उन्होंने कहा, “लालू जी अगर साहित्य के क्षेत्र में होते तो बहुचर्चित हास्य कवि होते। काका हाथरसी, हुल्लड़ मुरादाबादी और सूंड फैजाबादी सरीखे दिग्गज हास्य कवियों से बहुत आगे।”

तेजस्वी अपने पिता को एक अभिनेता के तौर पर देवानंद, दिलीप कुमार, राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन से भी बहुत आगे मानते हैं। उनका कहना है, “अगर मेरे पिता फिल्मों में होते तो इन सारे अभिनेताओं को रिटायरमेंट लेना पड़ जाता।”

लालू प्रसाद को तेजस्वी सबसे बड़ा जोकर भी मानते हैं। उन्होंने कहा, “महमूद, जॉनी वॉकर, मुकरी, राजेंद्र नाथ, जॉनी लीवर, आई एस जौहर, जूनियर महमूद उनके सामने पिद्दी साबित होते। उनकी किस्मत अच्छी थी कि लालूजी फिल्मों में नहीं गए।

Bihar Khoj Khabar
About the Author
Bihar Khoj Khabar is a premier News Portal Website. It contains news of National, International, State Label and lots More..

Related Posts

Leave a Reply

*