+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com

विलक्षण सगठन-कर्ता और सम्मोहक व्यक्तित्व के स्वामी थे बाबू जगजीवन राम : अशोक चौधरी

anil sulabhपटना, 6 जुलाई। विलक्षण संगठन कर्ता और सम्मोहक व्यक्तित्व के स्वामी थे बाबू जगजीवन राम। उनका व्यक्तित्व युवाओं के लिये उदाहरण हैं। वे दलित समाज के होकर भी भारत के उप प्रधानमंत्री के पद तक पहुँचने में सफ़ल रहे। यह उनकी कर्मठता, संगठन क्षमता और हृदय की विशालता का प्रमाण है।

यह विचार आज यहां कांग्रेस मुख्यालय सदाकत आश्रम में बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ की ओर से भारत के पूर्व परराष्ट्र मंत्री बाबू जगजीवन राम के स्मृति-दिवस पर आयोजित पुण्योत्सव का उद्घाटन करते हुए, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष श्री अशोक चौधरी ने व्यक्त किये।

श्री चौधरी ने कहा कि कांग्रेस सदा विचार-धारा की लड़ाई लड़ती रही है। देश की स्वतंत्रता और नये भारत के निर्माण में कांग्रेस के योगदान को भुलाया नही जा सकता। पिछली मनमोहन सिंह की सरकार में भी हमारी सरकार ने विभिन्न मदों में बिहार को लगबभ्ग दो लाख करोड़ रुपये की सहायता दी। अनेक उल्लेखनीय कार्य किये, किंतु हम अपनी बातों को जनता के बीच नही ले जा सके। हमें जनता के बीच पहुँचना चाहिये।

समारोह की अध्यक्षता करते हुए प्रकोष्ठ के अध्यक्ष डॉ अनिल सुलभ ने कहा कि महान स्वतंत्रता सेनानी और भारत के नवनिर्माण के अग्र-पांक्तेय नेता बाबू जगजीवन राम मजबूत इच्छा-शक्ति वाले विलक्षण संगठनकर्ता थे। वे समाज के सभी वर्गों में समानता और सबकी उन्नति के पक्षधर कर्तव्यनिष्ठ राजनेता तथा उदार-हृदय व्यक्ति थे। वे सच्चे अर्थों में वंचित-समाज के मसीहा थे। उन्होंने देश की स्वतंत्रता और वंचित समाज के लिये भी घोर संघर्ष किया और उनमे सफ़ल रहे। सार्वजनिक जीवन में आज उनकी सोंच-समझ वाले व्यक्तियों की भारी कमी पड़ गयी है। बाबूजी और कांग्रेस के पुराने मार्ग से ही भारत वर्ष की उन्नति संभव है।

डॉ सुलभ ने कहा कि आज देश में संप्रदाय और जाति की राजनीति हो रही है, जिससे आज संपूर्ण भारतवर्ष संकीर्णता और स्वार्थपरता का शिकार हो कर खण्ड-खण्ड विभक्त होने के कगार पर खड़ा हो गया है। जन-गण की वास्तविक स्वतंत्रता तथा उन्नति के लिये हमें गांधी-नेहरु और बाबूजी के मार्ग पर चलना होगा।

इस अवसर पर कांग्रेस नेता एच के वर्मा, आंबुज किशोर झा, सुबोध कुमार, पुरुषोत्तम मिश्र, अशोक गगन, राजेश राठौर, प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष अंबरीश कांत, आचार्य पांचु राम, डा तपसी ढेंक, रामनंदन पासवान, आनंद मोहन झा, संजय राज, हरिमोहम मिश्र, प्रो रुपम झा, डा अनुप कुमार गुप्ता, नीरव समदर्शी, बी पी सिंह, डा सीमा कुमारी, विजय कुमार राम, सुशील कुमार झा, आचार्य आनंद किशोर शास्त्री तथा रण्जीत झा ने भी अपने विचार व्यक्त किये।

इसके पूर्व प्रकोष्ठ की कार्यकारिणी समिति की बैठक संपन्न हुई, जिसमें पंचायत-स्तर तक प्रकोष्ठ की समिति गठित करने तथा प्रबुद्धजनों को कांग्रेस से जोड़ने का कार्य आरंभ करने का निर्णय लिया गया। बैठक में प्रकोष्ठ की राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व केन्द्रीय मंत्री डा गिरिजा व्यास के पत्र पर भी विचार विमर्श किया गया, जिसमें कांग्रेस के सिद्धांत और उसके अवदानों सहित 17 विन्दुओं पर, विद्वानों की गोष्ठियां आयोजित करने की सलाह दी गयी है। इस संबंध में निर्णय लिया गया कि प्रकोष्ठ की राज्य समिति समेत सभी जिला और प्रखंड समितियां भी अपने-अपने स्तर से गोष्ठियों के आयोजन करेंगी।

Bihar Khoj Khabar
About the Author
Bihar Khoj Khabar is a premier News Portal Website. It contains news of National, International, State Label and lots More..

Related Posts

Leave a Reply

*