+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com
BREAKING NEWS

हमारे अब तक के ज्ञान से 500 साल पुराना है शून्य !

एक प्राचीन भारतीय पांडुलिपि की कार्बन डेटिंग से पता चला है कि शून्य की मौजूदगी का सबसे पहला रिकॉर्ड हमारे अब तक के ज्ञान से भी पुराना है। 1902 से ब्रिटेन के ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में रखी गई बखशाली पांडुलिपि तीसरी या चौथी शताब्दी की बताई जा रही है।

इतिहासकारों के पास इस पांडुलिपि के बारे में जो जानकारी थी उससे ये कई सौ साल पुरानी बताई जा रही है। यह बखशाली पांडुलिपि 70 भोजपत्रों पर लिखी है जिसमें संस्कृत और गणित लिखी हुई है। यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफर्ड के मार्कस डु सॉतॉय का कहना है कि यह पांडुलिपि बौद्ध भिक्षुओं के लिए तैयार की गई ट्रेनिंग मैनुअल जैसी प्रतीत होती है।

इस पांडुलिपि को सबसे पहले सन् 1881 में एक स्थानीय किसान ने खोजा था। इसके बाद जिस गांव में यह पांडुलिपि मिली उसी के नाम पर इसका भी नाम रख दिया गया। अब यह गांव पाकिस्तान में है। इस पांडुलिपि को सन् 1902 में ब्रिटेन की ऑक्सफर्ड में बोडलियन लाइब्रेरी ने संग्रहित किया गया था। बोडलियन लाइब्रेरी के रिचर्ड ओवेन्डेन कहते हैं कि ये नई जानकारियां गणित के इतिहास के लिए काफ़ी महत्वपूर्ण हैं।

अब इस पांडुलिपि की कार्बन डेटिंग हुई है। पहले ऐसा माना जा रहा था कि यह पांडुलिपि 9वीं सदी की है लेकिन अब कार्बन डेटिंग से पता लगा है कि इसके कुछ पन्ने 224 ईसवी और 383 ईसवी के बीच के हैं। अभी तक ग्वालियर में एक मंदिर की दीवार पर शून्य के जिक्र को ही सबसे पुराना अभिलेखीय प्रमाण माना जाता रहा है।

70 भोजपत्रों पर लिखे टेक्स्ट में बिंदु के तौर पर सैकड़ों बार शून्य का इस्तेमाल किया गया है। प्राचीन भारत में गणित में इस्तेमाल होने वाला बिंदु समय के साथ शून्य के चिह्न के रूप में विकसित हुआ और इसे पूरी बखशाली पांडुलिपि में देखा जा सकता है। लेकिन इस ताजा खोज से पता लगता है कि शून्य इससे भी काफी पुराना है। माना जा रहा है कि इस नए सबूत से गणित के शुरुआती इतिहास के बारे में जानने में और मदद मिलेगी।

द गार्डियन अख़बार के मुताबिक संस्कृत के एक स्वरूप में लिखी गई इस पांडुलिपि के अनुवाद से पता चलता है कि ये सिल्क रूट के व्यापारियों के लिए प्रशिक्षण पुस्तिका थी और इसमें गणित के व्यावहारिक अभ्यास हैं जो बीजगणित के समान प्रतीत होता है।

Related Posts

Leave a Reply

*