+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com

हमने तो गुडबाय कर दिया : नीतीश कुमार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है. नीतीश ने शनिवार को राज्यपाल को अपना इस्तीफ़ा सौंपा. नीतीश ने लोकसभा चुनाव में मिली हार की नैतिक ज़िम्मेदारी लेते हुए इस्तीफ़े की घोषणा करते हुए कहा, “जनता ने स्पष्ट जनादेश दिया है, हम उसका सम्मा...

इस्तीफा देकर बोले नीतीश, उम्मीद है अच्छे दिन आएंगे

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोकसभा चुनाव में जदयू के खराब प्रदर्शन की जिम्मेदारी लेते हुए राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया। नीतीश ने शनिवार शाम 3.30 बजे राजभवन जाकर राज्यपाल डी. वाई. पाटील को अपना इस्तीफा सौंप दिया। यद्वपि, नीतीश ने साफ किया कि उन्होंने र...

बड़ी खबर ! सोनिया और राहुल गांधी दे सकते हैं इस्तीफा

आ रही ख़बरों के अनुसार लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की अब तक की सबसे बुरी हार के कारण कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी अपने पदों से इस्तीफा दे सकते हैं। शुक्रवार को सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए नई सरकार को बधाई दी थी। दिल्ली से आ रही...
off

डॉ मनमोहन सिंह का देश के नाम भाव भीना संदेश

प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने शनिवार को प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देने के पूर्व राष्ट्र को सम्बोधित किया। अपने सन्देश में उन्होंने कहा, ‘मुझे जो कुछ भी मिला इस देश की वजह से मिला। इस देश ने बंटवारे से बेघर हुए एक बच्चे को इतने ऊंचे ओहदे तक पहुंचाया, मैं इस कर्...

विदेशी मीडिया में भी छाए नरेन्द्र मोदी

 लोकसभा चुनाव में भाजपा की शानदार जीत पर अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने नरेन्द्र मोदी को ‘व्यावहारिक, समझदार नेता’ बताया, लेकिन साथ ही आगाह किया कि ‘फौलादी शैली’ से काम करने वाले राजनीतिज्ञ की राह में अनेक चुनौतियां हैं। न्यूयार्क टाइम्स ने भाजपा की जीत पर टिप्पणी करते हुए कहा, ‘सामान्य...

विश्वजीत सेन की कविताएं

पटना के कवि सम्मेलन में बहुत देर तक खींचातानी चलती रही कि मंच पर कौन बैठेगा और कौन नहीं एक कवि कह रहे थे कि फलां के मंच पर होने की स्थिति में वह मंच पर चढ़ नहीं सकते और फलां भी ऐसा कि मंच से उतरने का नाम ही न ले- बाहर दोपहर, सवारी को लेकर चिंतित रिक्शावाले और हम लगभग स...
off

आवारा दिन

हमारे घर की गन्दी चीजें बाहर फेंकी और नवम्बर की धूप में लाई जा रही है। अजीब तरह से मैं उदास हूं। अपनी बस्ती के काले छप्परों के ऊपर झुके एक स्थिर बादल को सुस्ती से ताकता और तार-तार और पुआल भरी भूरी तोशक को बाहर ले जाने में मां की सहायता करता हुआ मैं दहलीज पर गिर गया। ‘नजर...
off

चीफ की दावत

आज मिस्टर शामनाथ के घर चीफ की दावत थी। शामनाथ और उनकी धर्मपत्नी को पसीना पोछने की फुर्सत न थी। पत्नी ड्रेसिंग गाउन पहने, उलझे हुए बालों जूड़ा बनाए, मुंह पर फैली हुई सुर्खी और पाउडर को मले और मिस्टर शामनाथ सिगरेट-पर-सिगरेट फूंकते हुए, चीजों की फेहरित्त हाथ थामें एक कमरे से...