+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com

तब बग्घी ही पटना के रईसों का वाहन था

19 वीं सदी के मध्य में पटना शहर का विस्तार पश्चिम दरवाजा के पश्चिम में दूर तक हो चला था। नए शहर के वाशिंदे, जिनमें यूरोपियन और संपन्न स्थानीय निवासी थे, की निर्भरता अलग अलग जरूरतों के लिए पुराने शहर पर थी और पुराने शहर के वाशिंदों का सरकारी दफ्तरों और शिक्षण सुविधाओं के ...

प्रिंसिपल से मैंने तो ध्यान रखने कोे कहा था, उन्होंने तो बेटी को टॉपर ही बना दिया

बिहार बोर्ड द्वारा संचालित इंटर साइंस और इंटर आर्ट्स के टॉपरों ने एक न्यूज़ चैनल को दिए इंटरव्यू में बिहार में बिहार की पूरी शिक्षा व्यवस्था की पोल खोल कर रख दी है। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के आधिकारिक सूत्रों ने आशंका जतायी है कि परीक्षा देने के बाद इनकी सभी विषयों की कॉपियां...

वंचित बहुसंख्यकों को स्वर देने की कोशिश

फारवर्ड प्रेस के संपादक प्रमोद रंजन से हरि नारायण की बातचीत अप्रैल का महीना देश के दलित बहुजन समाज के लिए मायने रखता है क्योंकि इस महीने दो महापुरुषों की जयंती पड़ती है। पहले ज्योतिबा फुले और दूसरे डॉ. बी आर आंबेडकर। बहरहाल अप्रैल 2016 हिंदी प्रदेश में रहने व...

नारदा टेप्स के तमाम आरोपी मंत्रिमंडल में

प० बंगाल के लोग तब आश्चर्यचकित रह गए, जब उन्होंने तमाम आरोपियों को राज्य के नए मंत्रिमंडल में पाया। वैसे नारदा टेप्स के बारे में तृणमूल का दृष्टिकोण कभी बहुत स्वच्छ नहीं रहा। प्रारंभ में उन्होंने कहा कि टेप्स जोड़े-तोड़े हुए हैं। फिर उन्होंने अनुदान के प्रश्न को उठाया। हाल में ममता...