+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com

बैलगाड़ी और साइकिल के सहारे शुरू हुआ था इसरो का सफर

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बुधवार को एक ही रॉकेट से 104 उपग्रहों को प्रक्षेपित कर अंतरिक्ष विज्ञान में वह अभूतपूर्व सफलता हासिल की है जो अमेरिका, रूस, चीन जैसे विकसित देशों के वैज्ञानिकों के लिए सपना रहा है।

बैलगाड़ी और साइकिल के सहारे शुरू हुआ इसरो का सफर हैरतअंगेज है। डॉ. विक्रम साराभाई ने स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की प्रेरणा से 15 अगस्त 1969 को इसरो की स्थापना की थी। इसरो का पहला दफ्तर कैथोलिक चर्च सेंट मैरी में था।

आपको यह जानकर विस्मय होगा कि हमारे वैज्ञानिक आसमान मुट्ठी करने के सफर पर साइकिल और बैलगाड़ी के जरिए निकले थे। वैज्ञानिकों ने पहले रॉकेट को साइकिल पर लादकर प्रक्षेपण स्थल पर ले गए थे। इस मिशन का दूसरा रॉकेट काफी बड़ा और भारी था, जिसे बैलगाड़ी के सहारे प्रक्षेपण स्थल पर ले जाया गया था।

इससे भी ज्यादा रोमांचकारी बात यह है कि भारत ने पहले रॉकेट के लिए नारियल के पेड़ों को लांचिंग पैड बनाया था। हमारे वैज्ञानिकों के पास अपना दफ्तर नहीं था, वे कैथोलिक चर्च सेंट मैरी मुख्य कार्यालय में बैठकर सारी योजना बनाया करते थे। फिलवक्त पूरे भारत में इसरो के 13 सेंटर हैं।

इन्हीं मुश्किलों में हमारे वैज्ञानिकों ने पहला स्वदेशी उपग्रह एसएलवी-3 लांच किया था। यह 18 जुलाई 1980 को लांच किया गया था। दिलचस्प बात यह है कि इस प्रोजेक्ट के डायरेक्टर पूर्व राष्ट्रपति श्री डॉक्टर अब्दुल कलाम थे।  इस लांचर के माध्यम से रोहिणी उपग्रह को कक्षा में स्थापित किया गया।

Bihar Khoj Khabar About Bihar Khoj Khabar
Bihar Khoj Khabar is a premier News Portal Website. It contains news of National, International, State Label and lots More..

Bihar Khoj Khabar
About the Author
Bihar Khoj Khabar is a premier News Portal Website. It contains news of National, International, State Label and lots More..

Related Posts

  1. Syam sundar singh

    Jo dosre ke upper haste he unki ek din khud khilli ud jati he .mera bharat mahan jai hind….

  2. Syam sundar singh

    Jai hind

Leave a Reply

*