+91 943 029 3163 info@biharkhojkhabar.com

उनके अब्दुस, हमारे मक़बूल !

वर्ष 1936, पंजाब प्रांत के एक छोटे-से क़स्बे झांग की एक पाठशाला में छात्रों को प्रकृति के मूलभूत बलों के बारे में बताया जा रहा था। शिक्षक ने पहले गुरुत्वाकर्षण बल के विषय में बताया। सभी छात्र इससे वाक़िफ़ थे। गुरुत्वाकर्षण बल की वजह से ब्रह्माण्ड में मौजूद हर वस्तु दूसरे वस्तुओं ...

जन्म शताब्दी: व्यापक सरोकारों वाले क्रांतिकारी डॉ.सेन

अजित कुमार सेन, दुनिया जिन्हें डॉ ए. के. सेन के नाम से जानती थी, की जन्मशताब्दी चल रही है। बिहार और विशेषकर पटना के नागरिक समाज को आधुनिक व लोकतांत्रिक बनाने में जिन शख्सियतों का महती योगदान रहा है, उनमें डॉ ए. के. सेन अग्रणी रहे हैं। पेशे से चिकत्सिक रहे डॉ सेन...

जन्म शताब्दी समारोह: सत्ता और धन की न परवाह करने वाले क्रांतिकारी चिकित्सक थे डॉ ए. के सेन

पटना, 9 जुलाई। “मैं एक डॉक्टर हूँ। जब भी मेरे मन में लालच की कौंधती है, पैसे के प्रति मोह जागता है। डॉ ए. के सेन की याद मुझे उससे लालच से बचाती है। उन्होंने अपने जीवन में जो कुछ बिहार और समाज के लिए किया, जितनी संस्थाओं का निर्माण किया उसकी दूसरी मिसाल नही है। हमें उनकी याद...

कहां से चले थे, कहां पहुंच गये लालू

लोकसभा में 2013 में लोकपाल विधेयक पर चर्चा के दौरान उस विधेयक का विरोध करते हुए लालू प्रसाद ने कहा था कि यदि राजनीतिक दलों ने व्हीप जारी नहीं किया होता, तो लोकपाल बिल के पक्ष में पांच प्रतिशत सांसद भी वोट नहीं देते. संभवतः लालू प्रसाद ने अनेक सांसदों से व्यक्तिगत बातचीत के ...

सर्वाधिक विवादास्पद तांत्रिक चंद्रास्वामी का निधन

देश के सर्वाधिक विवादास्पद तांत्रिक चंद्रास्वामी का निधन हो गया है। चंद्रास्वामी मूल रूप से एक ज्योतिषी थे, लेकिन भूतपूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव से नजदीकियों के कारण पहली बार चर्चा में आए थे। 1948 में जन्में चंद्रास्वामी का असल नाम नेमी चंद था। वे जन्म से जैन थे, लेकिन ...

खास रिपोर्ट: लालू को समझने में हर वक्त, हर किसी ने भूल की

लक्ष्मी साहू, कर्पूरी ठाकुर के मुख्यमंत्री रहते हुए उनके निजी सचिव थे. पत्रकारों के मित्र थे. पटना के फ्रेजर रोड में उन्होंने एक बार लालू यादव के बारे में कई किस्से सुनाए. वक्त था 1975 के पहले के आपातकाल का. लालू यादव पटना विश्वविद्दालय के छात्र नेता थे. गांधी मैदान में जयप्रक...

क्या आप जानते हैं गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई का कितना है वेतन !

गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई का वेतन सुनकर यकायक आपको यकीन नहीं होगा। गूगल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुंदर पिचाई को वर्ष 2016 में वेतन और दूसरे मानदेय मिलाकर करीब 20 करोड़ डॉलर की राशि मिली है यानी करीब 13 अरब रूपये की रकम। सुंदर पिचाई  को एक वर्ष के वेतन के तौर पर 13 अरब रूपये यानी...

अगले तीन दशकों में वैश्विक अर्थव्यवस्था में भूकंप ला देगा इंटरनेट, जैक मा ने दी चेतावनी

  चीन की दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा ग्रुप होल्डिंग लि. के चेयरमैन जैक मा ने चेतावनी देते हुए कहा है कि हमें दशकों तक दर्द सहने के लिए तैयार रहना चाहिए क्योंकि इंटरनेट दुनिया भर की अर्थव्यवस्था में उथल-पुथल मचा रहा है। चीन के झंगझऊ में आयोजित एक आंट्रप्रन्योरशिप कॉन्फ्रेंस...

विजय माल्या कैसे बने ‘किंग ऑफ़ बैड टाइम्स’

शराब उद्योग को भारत में एक नया आयाम देने वाले विजय माल्या बैंक उद्योग के ‘नन परफॉर्मिंग एसेट’ संकट के प्रतीक बन गए हैं. विजय माल्या को ‘किंग ऑफ़ गुड टाइम्स’ कहा जाता था, पर आज यह एक मज़ाक बन चुका है. जीवन भर माल्या की कोशिश ये रही है कि वे अपने कारोबार ...

बिहार के अखौरी सिन्हा के नाम पर अमेरिका में पहाड़

वो कहते हैं न, पहाड़ ढाहने जैसा कठिन काम. इन्होंने तो पहाड़ बना दिया है. जी हां, उपलब्धियों का पहाड़. बक्सर के चुरामनपुर गांव निवासी अखौरी सिन्हा ने ऐसा कर दिखाया, जिस पर बिहार गुमान करे. यह देश के लिए गर्व की बात है कि इस इंडो-अमेरिकन साइंटिस्ट के नाम प...